June 6, 2021

अमेठी: जिला अध्यक्ष की अगुवाई में राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी को सौंपा

अमेठी: जिला अध्यक्ष प्रदीप सिंघल की अध्यक्षता में राष्ट्रपति महोदय को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से सौंपा गया. जिसे अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व अमेठी एस.पी. सिंह ने प्राप्त किया. ज्ञापन देते हुए जिलाध्यक्ष प्रदीप सिंघल ने कहा कि प्रतिदिन एक करोड़ वैक्सीनेशन सुनिश्चित किया जाए और भारत के हर नागरिक को यूनिवर्सल मुफ्त वैक्सीनेशन कराया जाए। इस भयंकर महामारी से वैक्सीनेशन ही मात्र सुरक्षा एवं बचाव है. आज जरूरत है कि केंद्र सरकार वैक्सीन खरीदें और राज्यों एवं निजी अस्पतालों को निशुल्क वितरित करें. ताकि राष्ट्र के नागरिकों का मुक्त वैक्सीनेशन किया जा सके. उन्होंने ज्ञापन के माध्यम से कहा कि मोदी सरकार को एक दिन एक करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाए जाने एवं यूनिवर्सल मुफ्त वैक्सीनेशन का निर्देश दें. इस बीमारी को हराया जा सके और प्रत्येक भारतीय को कोरोना से जीत दिलाई जा सके।
ज्ञापन के माध्यम से आगे कहा गया है कि केंद्र सरकार ने जानबूझकर एक डिजिटल डिवाइड पैदा किया| जिससे वैक्सीनेशन की प्रक्रिया धीमी हो गई साथ ही विभिन्न कीमतों के स्लैब बनाने में जानबूझकर मिलीभगत की गई ताकि आम आदमी से आपदा में लूट की जा सक. भारत सरकार के अनुसार 31 मई 2021 तक केवल 21.31 करोड़ वैक्सीन ही ही लगाई गई. लेकिन वैक्सीन की दोनों खुराके केवल 4.45 करोड़ भारतीयों को ही मिली है, जो भारत की आबादी का केवल 3.17 प्रतिशत है. पिछले 134 दिनों में वैक्सीनेशन की औसत गति लगभग 16 लाख खुराक प्रतिदिन है। केंद्र की भाजपा सरकार आज तक वैक्सीन की 6.63 करोड़ खुराक दूसरे देशों को निर्यात कर चुकी है. इसी प्रकार सिरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड की एक खुराक की कीमत मोदी सरकार के लिए ₹150 ,राज्य सरकारों के लिए ₹300 ,और निजी अस्पतालों के लिए ₹600 है. भारत बायोटेक की कोवैक्सीन की एक खुराक की कीमत मोदी सरकार के लिए ₹150 ,राज्य सरकार के लिए ₹600 ,और निजी अस्पतालों के लिए 1200 रुपए है| निजी अस्पताल एक खुराक के लिए ₹1500 तक वसूल रहे हैं।

You may also like...