October 1, 2021

मनीष हत्याकांड पर वैश्य समाज का फूटा गुस्सा कहा दरोगा सुपारी किलर है,,,

मनीष हत्याकांड पर वैश्य समाज का फूटा गुस्सा कहा दरोगा सुपारी किलर है,,,

वैश्य समाज का फूटा गुस्सा दोषी पुलिसकर्मियों पर रासुका लगाए जाने की मांग।


वैश्य समाज की मांग पुलिसकर्मियों ने किया है संगठित अपराध रासुका पर हो कार्रवाई


गोरखपुर में कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता हत्याकांड पर अब वैश्य समाज का का विरोध भी शुरू हो गया है सैकड़ों की संख्या में समाज के लोगों ने डीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

मनीष गुप्ता हत्याकांड में वैश्य एकता परिषद के कार्यकर्ताओं ने गोरखपुर पुलिस के अपराधिक कृत्य का विरोध करते हुए उच्च स्तरीय सीबीआई जांच की मांग की है।
ज्ञापन देने पहुंचे वैश्य एकता परिषद के राष्ट्रीय सचिव इंजीनियर विजय रस्तोगी ने संदेह व्यक्त करते हुए कहा है कि हत्यारोपी दरोगा का इतिहास देखने के बाद जांच होनी चाहिए कि कहीं ये सुपारी किलर तो नहीं है क्योंकि जिस तरह से होटल में रुके मनीष को वहां पर जाकर पुलिस के द्वारा मारा गया यह संदेह और गहरा हो जाता है कि मनीष प्रॉपर्टी का काम करते थे किसी संपत्ति को लेकर दूसरी पार्टी से मिलकर हत्यारोपी दरोगा और उसके सिपाहियों ने मनीष की हत्या की सुपारी ली होगी।
उन्होंने फरार दरोगा और पुलिसकर्मियों को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है और ज्ञापन में पीड़ित परिवार को सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश सरकार से निवेदन किया है।

जिला अध्यक्ष राजकुमार गुप्ता ने कहा कि इस जघन्य हत्याकांड का सबसे बड़ा कारण पुलिस को अत्यधिक अधिकार और छूट देना है। उन्होंने पुलिस के कृत्य पर आरोप लगाते हुए कहा है कि पिछली सरकारों में भी पुलिस बेलगाम थी और इस सरकार में भी पुलिस बेलगाम सबसे उत्पीड़न वैश्य समाज के लोगों का हो रहा है माफियाओं गुंडों के द्वारा और गद्दी में बैठे नौकरशाहों के द्वारा।
सोशल मीडिया में वायरल हो रहे वीडियो जिसमें उच्च अधिकारियों के द्वारा पीड़ित परिवार पर समझौता करने का दबाव बनाया जा रहा है इस मामले में भी वैश्य नेताओं ने संबंधित अधिकारियों के खिलाफ षड्यंत्रकारी और हत्त्यारोपियो का साथ देने का आरोप लगाया है और उनके खिलाफ भी जांच की मांग की है।

व्यापारी नेता पंकज मुरारका ने दोषी पुलिसकर्मियों के ऊपर रासुका के तहत कार्रवाई किए जाने की मांग की है उन्होंने कहा है कि पुलिस कर्मियों के द्वारा जिम्मेदार पद पर बैठकर हत्या जैसे जघन्य अपराध को करने वाले पूरे प्रदेश के लिए घातक हैं यह एक संगठित अपराध है और इस पर रासुका लगाने जरूरी है।

संदीप जैन ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि दोषी पुलिस कर्मियों की संपत्ति को सरकारी कब्जे में लेकर नीलाम करवा कर उससे जो रकम इकट्ठा हो से पीड़ित परिवार को दिया जाए साथ ही पुलिस कर्मियों के फंड की भी रिकवरी करवाकर उसे पीड़ित परिवार के नाम कर दिया जाए। इससे प्रदेश में काम करें सभी पुलिसकर्मियों को सीख मिलेगी कि न्याय संगत काम करें अन्याय ना करें वर्दी की मर्यादा को बनाकर रखें।

ज्ञापन देने में बीना गुप्ता विनीत गुप्ता एडवोकेट राकेश जयसवाल एडवोकेट संतोष सोनी रवि सोनी
आनंद गुप्ता एडवोकेट वीरेंद्र अग्रहरी रवि गुप्ता आर बी वैश्य महेंद्र अग्रहरी राकेश गुप्ता पवन गुप्ता रविंद्र साहू बलराम साहू सुधीर रस्तोगी चंद्र शेखर रस्तोगी सुधीर गुप्ता अभिषेक वर्मा राधेश्याम अग्रहरी से सागर अग्रहरी अजय गुप्ता शिव कुमार नेता गोलू गुप्ता अजय गुप्ता मनीष अग्रहरि और दिवाकर गुप्ता मौजूद रहें।

You may also like...