November 8, 2021

रायबरेली: ए एम ओ को सभी 53 राइस मिलों के मालिकों ने सौंपी चाबी

रायबरेली: ए एम ओ को सभी 53 राइस मिलों के मालिकों ने सौंपी चाबी

मनीष अवस्थी


रायबरेली। उत्तर प्रदेश एक कृषि उत्पादित राज्य है जिसमें जनपद रायबरेली की अपनी अहम भागीदारी रहती है इसी क्रम में धान की कृषि जनपद में एक उद्योग के रूप में हमारे कृषक भाइयों द्वारा की जाती है जिसमें राइस मिलर की अहम भूमिका होती है किंतु वर्तमान समय में राइस मिल जनपद में ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश में बहुत ही बदहाली की अवस्था में आर्थिक संकट से घिरा हुआ है ऐसी स्थिति में चावल उद्योग में समस्याओं का समाधान ना हुआ तो यह उद्योग बहुत ही जल्द समाप्त हो जाएगा इसी के मद्देनजर आज जनपद रायबरेली के गोल्डन दीप होटल में प्रेस वार्ता रखी गई जिसमें मुख्य अतिथि के रुप में समाजसेवी गजाधर सिंह और राइस मिल के जिला अध्यक्ष के साथ कई मिल्श के मालिक आए थे और सभी ने एक स्वर में अपने राइस मिल की चाबी सरकार को देने के लिए संकल्प लिया सभी ने कहा जब सरकार हमारी सुध नहीं लेती और इस आर्थिक संकट में हम जूझ रहे हैं ऐसे हालात में ठेकेदारी प्रथा का हम विरोध करते हैं और हमारी 2 साल से पैसे का भुगतान नहीं हुआ जिससे समस्त राइस मिल के मालिकों ने अपनी चाबी देने का विचार बनाया और दूसरा काम शुरू करने के लिए अपनी बात रखी
उन्होंने बताया हमारी सबसे बड़ी समस्या रिकवरी प्रतिशत की समस्या, धान कुटाई में प्रोत्साहन राशि को बढ़ाया जाना, राज्य एजेंसी द्वारा भुगतान नहीं करने के संबंध में, चावल परिवहन भाड़ा, पूर्व की तरह चावल परिवहन का कार्य राइस मिलर से ही कराया जाए ऐसे ही कई मांगों को राइस मिल के माल क्यों नहीं रखी उन्होंने कहा जनपद के हम सभी सरकार से मांग करते हैं हमारी मांगों पर विचार करें जिससे राइस मिल सुचारू रूप से चलाया जा सके और ठेकेदारी प्रथा को पूर्ण रुप से बंद किया जाए इस अवसर पर विनय शंकर शुक्ला, कौशल किशोर मिश्रा, अरुण कुमार, सरदार मंजीत सिंह सूर्य विक्रम सिंह दिलीप सिंह अनूप सिंह, आदि कई राइस मिल के मालिक उपस्थित थे

You may also like...