September 24, 2021

रायबरेली: गोली मारकर युवक की हत्या, परिवार में मचा कोहराम

रायबरेली: गोली मारकर युवक की हत्या, परिवार में मचा कोहराम

रायबरेली। हरचंदपुर पुलिस का इकबाल खत्म होता उस समय दिखा जब लाइसेंसी बंदूक से दबंगों ने एक युवक का भेजा उड़ा दिया । घटना के बाद पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई । मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक सहित लगभग आधा दर्जन थानों की पुलिस पहुंचकर मोर्चा संभाला। तब कहीं जाकर ग्रामीण व परिजन शव के पोस्टमार्टम के लिए राजी हुये। मामला हरचंदपुर थाना क्षेत्र के गढ़ी खास के प्रधान लक्ष्मीकांत के गेस्ट हाउस का है। इसी गेस्ट हाउस में खुलेआम लाइसेंसी बंदूक रखी गई थी। जिससे इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया ।

हरचंदपुर थाना क्षेत्र के गढ़ी खास के प्रधान लक्ष्मीकांत के गेस्ट हाउस में 2 लाइसेंसी बंदूके रखी हुई थी और वहीं पर उनके पाले हुए गुर्गे भी खानपान के साथ आराम फरमाते रहे थे। देर शाम राजवीर व उसके साथी ने लाइसेंसी बंदूक से उसी गेस्ट हाउस में रहने वाले शुभम की गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी। घटनास्थल पर लाश देखकर किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाते। जैसे ही हत्या की सूचना ग्रामीणों को मिली चारों तरफ चीख पुकार के साथ सैकड़ों लोगों का मजमा रायबरेली महाराजगंज रोड स्थित गेस्ट हाउस के सामने लग गया। भीड़ बेकाबू देख कर लगभग 6 थानों की पुलिस फोर्स के साथ अपर पुलिस अधीक्षक विश्वजीत श्रीवास्तव ने भी मोर्चा संभाला और घंटों की मशक्कत के बाद परिजनों व ग्रामीणों को मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए राजी किया।

घटना के बाद जिस तरह लोगों में आक्रोश वह गुस्सा देखा गया उससे बड़ी अनहोनी की आशंका जताई जाने लगी थी तभी पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने अपर पुलिस अधीक्षक सहित अन्य पुलिस अधिकारियों व बछरावां, मिल एरिया, महाराजगंज, हरचंदपुर ,शिवगढ़ ,कोतवाली नगर सहित लगभग आधा दर्जन की पुलिस फोर्स मौके पर भेज दिया । जहां चाणक्य की भूमिका में अपर पुलिस अधीक्षक विश्वजीत श्रीवास्तव नजर आए जिन्होंने कोने कोने में अपने विश्वसनीय थानेदारों को लगाकर भीड़ वा परिजनों को समझाने बुझाने का प्रयास करवाया और अंततः वह अपने मंसूबे में सफल भी हो गए । भीड़ व परिजनों के आक्रोश को शांत कर एक और बड़ी घटना कारित होने से बचा लिया। बताते चलें कि इससे पहले भी इसी थाना क्षेत्र के त्रिपुला के पास सरेआम एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जिसमें मृतक अंकुर चौधरी के परिजनों व उनके गांव वालों ने हाईवे पर जाम कर दिया था लेकिन तब से अभी तक पुलिस के लंबे हाथ हत्यारों के गिरेबान तक पहुंच नहीं पाए । इस तरह दर्जनों अपराधिक घटनाएं हरचंदपुर थाना क्षेत्र में घटित हो चुकी हैं जिस पर अंकुश लगाने में हरचंदपुर थाना प्रभारी पूरी तरह विफल नजर आ रहे हैं । यही कारण है कि अपराधियों व दबंगों के हौसले बुलंदी पर हैं और पुलिस अपना वजूद खो रही है।

सबसे खास बात की प्रधान लक्ष्मीकांत के गेस्ट हाउस में आखिर खुलेआम लाइसेंसी बंदूक कैसे और क्यों रखी गई थी ?क्या लक्ष्मीकांत के गेस्ट हाउस से असलहों का व्यापार होता है ?या फिर इन असलहों के दम पर दूसरों को धमकाने व दबंगई कराने का काम किया जाता है। एक बड़ा विषय यह भी है कि लक्ष्मीकांत प्रधान के गेस्ट हाउस में इन लाइसेंसी लोडेड बंदूकों के अलावा अन्य अवैध असलहों की भी खेप मौजूद थी । फिलहाल यह जांच का विषय है लेकिन अब देखना यह है कि पुलिस लाइसेंसी बंदूको के मालिकों को ही बलि का बकरा बनाती है या फिर उसे अपने घर में रखवा कर इस तरह की घटना को उकसाने में दोषी प्रधान पर भी पुलिस कार्यवाही करती है।

You may also like...