July 2, 2021

रायबरेली: मुनव्वर राणा के बेटे तबरेज राना ने खुद पर चलवाई थी गोली, पुलिस ने किया बड़ा खुलासा..

मनीष अवस्थी


रायबरेली। मशहूर शायर मुनव्वर राना के बेटे पर हुए हमले का पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया है। खुलासे में तबरेज खुद ही बड़ा साजिशकर्ता निकला। पैतृक संपत्ति हड़पने के लिए अपने साथियों के साथ मिलकर उसने खुद पर गोली चलवाई । बीते 28 जून को शहर कोतवाली क्षेत्र के त्रिपुला पेट्रोल पंप पर तबरेज राना की गाड़ी पर फायरिंग हुई थी जिसके बाद रायबरेली पुलिस पूरे एक्टिव मोड में नजर आयी। हालांकि पुलिस ने चार लोगों को हिरासत में लेकर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है जबकि अभी भी तबरेज पुलिस की गिरफ्त से दूर है।

28 जून को शहर कोतवाली क्षेत्र के त्रिपुरा पेट्रोल पंप मुनव्वर राणा के बेटे तबरेज राणा की गाड़ी पर फायरिंग हुई थी जिसमें मौके से खोखे भी बरामद हुए घटना के बाद सुबह में हड़कंप मच गया रावली पुलिस भी एक्टिव मोड में आ गई पुलिस अधीक्षक ने एसओजी प्रभारी अमृत त्रिपाठी व शहर कोतवाल अतुल सिंह की निगरानी में टीमें गठित कर जल्द से जल्द खुलासे का निर्देश दिया था जिसके 2 दिन बाद शुक्रवार को पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुए तबरेज को ही मुख्य साजिशकर्ता बताया और 4 लोगों को हिरासत में लेकर नए कक्षा में भेज दिया साथ ही मुख्य साजिशकर्ता तबरेज राणा कि पुलिस बड़े ही सरगर्मी के साथ तलाश कर रही है।

तबरेज राना पर हुए हमले के रहस्य का पुलिस ने खुलासा कर दिया। खुलासे में 4 लोगों हलीम, सुल्तान, सत्येंद्र त्रिपाठी व शुभम सरकार को पुलिस ने गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है । जबकि तबरेज अभी पुलिस के निशाने पर है । पुलिस के मुताबिक हलीम व सुल्तान तबरेज राना के अच्छे मित्रों में गिने जाते हैं। तबरेज राना ने हलीम व सुल्तान के साथ मिलकर हमले की साजिश रची जिससे कि उनके चाचा व चचेरे भाइयों पर मुकदमा दर्ज हो जाए और वे लोग उसमें उलझ जाएं। जिसके बाद तबरेज अपनी पैतृक संपत्ति आसानी से बेच सके। हलीम व सुल्तान ने सत्येंद्र और शुभम सरकार को हमले के लिए किराए पर बुलाया और हमले को अंजाम दिलवाया।

तबरेज के चाचा इस्माइल राना व राफे राना ने तबरेज पर आरोप लगाते हुए कहा की तबरेज ने बिना हम लोगों को बताएं एक बीघे जमीन जिसकी अनुमानित कीमत लगभग एक करोड़ है । दूसरे के हाथ बेच दिया। जैसे ही हम लोगों को जानकारी हुई हम लोगों ने तत्काल बैनामा कैंसिलेशन का केस दायर कर दिया। जिसके बाद ही तबरेज राना ने ही हम लोगों को फंसाने के लिए साजिश रची। तबरेज के चाचा ने आरोप लगाते हुए तबरेज को ब्लैकमेलर वह गलत सोहबत वाला लड़का बताया। साथ ही कहा मुनव्वर राना हमारे बड़े भाई हैं इस समय जो बयान बाजी वह कर रहे हैं । वह सब तबरेज, उनकी बहनों व अपनी पत्नी के दबाव में कर रहे हैं । वह इस समय बिल्कुल सेंस में नहीं है। इस तरह इस्माइल व राफे राना ने मुनव्वर राना का बचाव करते हुए तबरेज ,उनकी बहन व उनकी मां पर आरोपों की झड़ी लगा दी।

जिस तरह नाटकीय ढंग से तबरेज ने अपने ऊपर हमला कराया उसी तरह पुलिस ने बड़ी ही सजगता से मामले का खुलासा भी कर दिया । सीसीटीवी फुटेज निकालने के बाद ही तस्वीर साफ हो गई थी कि हमला किया नहीं की बल्कि कराया गया था क्योंकि तबरेज ने हमले के दिन बोला था कि जैसे मेरी गाड़ी पेट्रोल पंप की तरफ मुड़ी हमारी गाड़ी पर हमला हुआ। हमने दाहिने तरफ गाड़ी की स्टेरिंग मोड़ दी और बाल-बाल बच गया। जबकि सीसीटीवी फुटेज में साफ दिखाई पड़ रहा है गाड़ी पहले से खड़ी थी उसके बाद इत्मीनान से दो लोग आए और फायरिंग करके आराम से निकल गए। पुलिस ने भी यही खुलासा करते हुए फायरिंग के रहस्य से पर्दा उठा दिया है। हालांकि फायरिंग करने वाले समेत चार लोगों को पुलिस ने हिरासत में लेकर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है जबकि मुख्य साजिशकर्ता तबरेज राना की तलाश में पुलिस टीमें अभी भी लगी हुई है । अब देखना यह है कि तबरेज राना कब और कहां से पुलिस की गिरफ्त में आता है।

पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने बताया कि बीते 28 जून को शहर कोतवाली क्षेत्र के त्रिपुला पेट्रोल पंप पर तबरेज राना पर हमले की बात आई थी। जिसके बाद पुलिस टीमें लगा दी गई थी। जांच में पता चला कि तबरेज राना ने अपने दो साथियों हलीम व सुल्तान के साथ मिलकर खुद साजिश रची थी। जिससे कि उनके चाचा व चचेरे भाई मुकदमे में उलझ जाएं जिससे वह अपनी पैतृक संपत्ति आसानी से बेच सकें। इसके लिए हलीम व सुल्तान ने सत्येंद्र त्रिपाठी व शुभम सरकार को हमले के लिए किराए पर लिया और हमले को अंजाम दिलवाया। हलीम ,सुल्तान, शुभम व सत्येंद्र को हिरासत में लेकर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया है जबकि तबरेज राना अभी भी पकड़ से दूर है। टीमें लगा दी गई है जल्द ही उनकी भी गिरफ्तारी होगी।

You may also like...